Lord Mahavir Quotes – Mahavir Jayanti Quotes and wishes

Mahavir Jayanti also known as Mahavir Janma Kalyanak is a Jainism religious holiday to celebrate the birth of Lord Mahavira.

Mahavir Jayanti Quotes and wishes in Hindi and English with Images.

Scroll down for Lord Mahavir Quotes in ENGLISH


Mahavir Jayanti Quotes and Wishes in Hindi

“एक व्यक्ति जलते हुए जंगल के मध्य में एक ऊँचे वृक्ष पर बैठा है . वह सभी जीवित प्राणियों को मरते हुए देखता है . लेकिन वह यह नहीं समझता की जल्द ही उसका भी यही हस्र होने वाला है . वह आदमी मूर्ख है।” » भगवान् महावीर

“भगवान् का अलग से कोई अस्तित्व नहीं है। हर कोई सही दिशा में सर्वोच्च प्रयास कर के देवत्त्व प्राप्त कर सकता है।” » भगवान् महावीर

“प्रत्येक जीव स्वतंत्र है, कोई किसी और पर निर्भर नहीं करता।” » भगवान् महावीर

“सभी जीवित प्राणियों के प्रति सम्मान अहिंसा है।” » भगवान् महावीर

“आत्मा अकेले आती है अकेले चली जाती है, न कोई उसका साथ देता है न कोई उसका मित्र बनता है।” » भगवान् महावीर

“आपकी आत्मा से परे कोई भी शत्रु नहीं है . असली शत्रु आपके भीतर रहते हैं , वो शत्रु हैं क्रोध , घमंड , लालच ,आसक्ति और नफरत।” » भगवान् महावीर

“अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है।” » भगवान् महावीर

“सुखी जीवन जीने के लिए दो बातें हमेशा याद रखें :- अपनी मृत्यु – भगवान” » भगवान् महावीर

“किसी आत्मा की सबसे बड़ी गलती अपने असल रूप को ना पहचानना है , और यह केवल आत्म ज्ञान प्राप्त कर के ठीक की जा सकती है।” » भगवान् महावीर

“सभी मनुष्य अपने स्वयं के दोष की वजह से दुखी होते हैं , और वे खुद अपनी गलती सुधार कर प्रसन्न हो सकते हैं।” » भगवान् महावीर

“किसी के अस्तित्व को मत मिटाओ। शांतिपूर्वक जिओ और दुसरो को भी जीने दो।” » भगवान् महावीर

“शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है।” » भगवान् महावीर

“क्या तुम लोहे की धधकती छड़ सिर्फ इसलिए अपने हाथ में पकड़ सकते हो क्योंकि कोई तुम्हे ऐसा करना चाहता है ? तब , क्या तुम्हारे लिए ये सही होगा कि तुम सिर्फ अपनी इच्छा पूरी करने के लिए दूसरों से ऐसा करने को कहो। यदि तुम अपने शरीर या दिमाग पर दूसरों के शब्दों या कृत्यों द्वारा चोट बर्दाश्त नहीं कर सकते हो तो तुम्हे दूसरों के साथ अपनों शब्दों या कृत्यों द्वारा ऐसा करने का क्या अधिकार है ?” » भगवान् महावीर

“प्रत्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदमय है। आनंद बाहर से नहीं आता।” » भगवान् महावीर

“खुद पर विजय प्राप्त करना लाखों शत्रुओं पर विजय पाने से बेहतर है।” » भगवान् महावीर

“आपने कभी किसी का भला किया हो तो उसे भूल जाओ। और कभी किसी ने आपका बुरा किया हो तो उसे भूल जाओ।” » भगवान् महावीर

“स्वयं से लड़ो , बाहरी दुश्मन से क्या लड़ना ? वह जो स्वयम पर विजय कर लेगा उसे आनंद की प्राप्ति होगी।” » भगवान् महावीर

“हर एक जीवित प्राणी के प्रति दया रखो। घृणा से विनाश होता है।” » भगवान् महावीर

“पर दुख को जो दुख न माने,पर पीड़ा में सदय न हो। सब कुछ दो पर प्रभु किसी को,जग में ऐसा हृदय न दो।” » भगवान् महावीर

“आपात स्थिति में मन को डगमगाना नहीं चाहिये।” » भगवान् महावीर

Lord Mahavir Quotes in English

“Non-violence is the highest religion” » Lord Mahavir

“The soul comes alone and goes alone, no one companies it and no one becomes its mate” » Lord Mahavir

“There is no separate existence of God. Everybody can attain Godhood by making supreme efforts in the right direction.” » Lord Mahavir

“Every soul is in itself absolutely omniscient and blissful. The bliss does not come from outside” » Lord Mahavir

“All souls are alike. None is superior or inferior.” » Lord Mahavir

“Can you hold a red-hot iron rod in your hand merely because some one wants you to do so? Then, will it be right on your part to ask others to do the same thing just to satisfy your desires? If you cannot tolerate infliction of pain on your body or mind by others’ words and actions, what right have you to do the same to others through your words and deeds?” »Lord Mahavir

“God is neither the creator nor the destructor of the universe. He is merely a silent observer and omniscient.” » Lord Mahavir

“One who, even after knowing the whole universe, can remain unaffected and unattached is God.” » Lord Mahavir

“A man is seated on top of a tree in the midst of a burning forest. He sees all living beings perish. But he doesn’t realize that the same fate is soon to overtake him also. That man is fool” » Lord Mahavir

“Silence and Self-control is non-violence” » Lord Mahavir

“A living body is not merely an integration of limbs and flesh but it is the abode of the soul which potentially has perfect perception (Anant-darshana), perfect knowledge (Anant-jnana), perfect power (Anant-virya), and perfect bliss (Anant-sukha)” » Lord Mahavir.” » Lord Mahavir

“It is better to win over self than to win over a million enemies” » Lord Mahavir

“Have compassion towards all living beings. Hatred leads destruction” » Lord Mahavir

“Every soul is independent. None depends on another” » Lord Mahavir

“Respect for all living beings is non violence” » Lord Mahavir

“There is no enemy out of your soul.The real enemies live inside yourself, they are anger, proud, curvedness, greed, attachmentes and hate” » Lord Mahavir

“All human beings are miserable due to their own faults, and they themselves can be happy by correcting these faults.” » Lord Mahavir

“The greatest mistake of a soul is non recognition of its real self and can only be corrected by recognizing itself.” » Lord Mahavir

“Once when he sat (in meditation)… they cut his flesh… tore his hair… picked him up and… dropped him… the Venerable One bore the pain” » Acaranga Sutra

“All beings hate pain, therefore one should not hurt kill them.” » Lord Mahavir

“Fight with yourself, why fight with external foes? He who conquers himself through himself, will obtain happiness.” » Lord Mahavir

“Ahimsa (non violence) is the highest religion.” » Lord Mahavir

“Know thyself, recognize thyself, be immersed in thyself you will attain Godhood.” » Lord Mahavir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *